SGPC secretary wrote letter to Badungar for leave

0
29
एसजीपीसी के सचिव ने बडूंगर को लिखा पत्र, छुट्टी दो या त्यागपत्र लो

एसजीपीसी के एक सचिव डॉ. रूप सिंह ने पत्र लिखकर चेतावनी दी है कि अगर उनको छुट्टी न दी गई तो उसको मजबूरन अपने पद से त्यागपत्र देना होगा।

जेएनएन, अमृतसर। एसजीपीसी के एक सचिव डॉ. रूप सिंह ने एसजीपीसी के अध्यक्ष प्रो. किरपाल सिंह बडूंगर को पत्र लिख कर विदेश जाने के लिए तीन माह के लिए छुट्टी की मांग की है। साथ ही चेतावनी दी है कि अगर उनको छुट्टी न दी गई तो उसको मजबूरन अपने पद से त्यागपत्र देना होगा।

ऐसा पहली बार है कि किसी सचिव ने इस तरह का पत्र लिख कर त्यागपत्र देने की धमकी एसजीपीसी अध्यक्ष को दी है। डॉ. रूप सिंह के इस पत्र को लेकर एसजीपीसी में खासी चर्चा चल रही है। वहीं कई अन्य सचिवों में इस पत्र को लेकर खुशी की देखी जा रही है।

यह भी पढ़ें: रेत खनन मामले में पीछे हटी कैप्‍टन सरकार, 56 खदानों की ई नीलामी रद

उल्लेखनीय है कि एसजीपीसी की ओर से अलग अलग सचिवों के काम काज पर कथित अंकुश लगाने के लिए उनके उपर 73 वर्षीय एक व्यक्ति को मुख्य सचिव लगाया गया है। इससे सचिवों को लगता है कि उनके मान सम्मान को ठेस पहुंची है। क्योंकि उनकी कार्यप्रणाली को चैक करने के लिए उनके ऊपर भी कोई अधिकारी बैठा दिया गया है। जबकि इस से पहले सचिव सीधे तौर पर अपने कामों के लिए अध्यक्ष को जवाबदेही होता था।

सचिवों के ऊपर मुख्य सचिव की नियुक्ति एसजीपीसी की ओर से वर्ष 2015 में की गई थी। मुख्य सचिव के पास एसजीपीसी के अध्यक्ष के बराबर के अधिकार है। अब सचिव एसजीपीसी के अध्यक्ष के साथ साथ मुख्य सचिव के समक्ष भी जवाब देह बने हुए है।

यह भी पढ़ें: साडा पंजाबी दा दम: ब्रिटेन में जीत पर पंजाब के जालंधर में जश्‍न

दो-दो अधिकारियों को जवाब देना एसजीपीसी के सचिवों को अच्छा नहीं लगता। यह भी सामने आया है कि सचिवों से एसजीपीसी का नेतृत्व धार्मिक व प्रबंधकीय मामलों में कोई भी राय नहीं ले रहा है जबकि इस से पहले सचिवों की राय से ही अध्यक्ष काम करता था। डॉ. रूप सिंह ने एक माह को नोटिस देते हुए एसजीपीसी के अध्यक्ष से तीन माह की छुट्टी मांगी है।

By
Ankit Kumar 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here