Businessmen want to get Green Tea GST free 16124586

0
39


ग्रीन टी को जीएसटी मुक्त कराने की तैयारी, कैप्टन से करेंगे अपील

एसोसिएशन के सदस्यों ने विधायक ओमप्रकाश सोनी से मांग की है कि वह मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से इस संबंध में बात करें। ग्रीन टी को सरकार से पहले भी सेंट्रल एक्साइज से छूट मिली

जेएनएन, अमृतसर। ग्रीन टी कारोबार का हब समझे जाने वाली गुरु नगरी में इस कारोबार से जुड़े व्यापारियों को जीएसटी का खौफ सताने लगा है। कारोबारियों का तर्क है कि इससे जहां ग्रीन टी उत्पादक प्रभावित होंगे, वही दशकों से इस कारोबार से जुड़े कारोबारी भी प्रभावित होगे।

ग्रीन टी को जीएसटी से मुक्त करवाने के लिए अमृतसर टी टेडर्स एसोसिएशन का एक प्रतिनिधिमंडल विधायक ओमप्रकाश सोनी से मिला। एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र गोयल ने कहा कि भारत में सबसे ज्यादा कारोबार अमृतसर में ही होती है। साल भर का ट्रेड डेढ़ सौ करोड़ रुपये का है। 2007 से पहले जब कैप्टन अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री काल में पंजाब में वैट टैक्स लगाया गया था तब ग्रीन टी को इससे छूट मिली थी।

यह भी पढ़ें: एजेंट ने धोखा देकर शेख को बेच दिया था : सुखवंत

अब भी सरकार इसे जीएसटी से मुक्त रखे, ताकि इस व्यवसाय को बचाया जा सके। एसोसिएशन के सदस्यों ने विधायक ओमप्रकाश सोनी से मांग की है कि वह मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से इस संबंध में बात करें। ग्रीन टी को सरकार से पहले भी सेंट्रल एक्साइज से छूट मिली है। यह टी असम से यहां आती है। अगर जीएसटी लगा तो असम के ग्रीन टी उत्पादक भी प्रभावित होंगे।

इस अवसर पर विधायक ओमप्रकाश सोनी ने कहा कि वे इस संबंध मे मांगपत्र राज्य विला मंत्री मनप्रीत सिंह बादल के जरिए केद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली को भेजेंगे। 

यह भी पढ़ें: जालंधर में भी आज से रोजाना बदलेंगे पेट्रोल-डीजल के दाम


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here