Anmol second place in UPSC exam 16126314

0
39


यूपीएससी परीक्षा में पंजाब के अनमोल दूसरे स्थान पर, राहुल का 76वां रैंक

यूपीएससी परीक्षा में पंजाब के अनमोल ने दूसरा रैंक हासिल किया, जबकि राहुल शर्मा ने 76वां, हितिका वसल ने 121वां व बरनाला के वकुल ने 195वां रैंक हासिल किया।

जेएनएन, अमृतसर। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की सबसे प्रतिष्ठित सिविल सेवा परीक्षा में पंजाब का परचम लहराया है। कर्नाटक के कोलार जिले की नंदिनी केआर ने टॉप किया है, जबकि दूसरे स्थान पर अमृतसर के अनमोल शेर सिंह बेदी रहे। अमृतसर के ही राहुल शर्मा ने 76वां रैंक, होशियारपुर जिले के दसूहा की हितिका वसल ने 121वां व बरनाला के वकुल ने 195वां रैंक हासिल किया है।

यूपीएससी की परीक्षा में दूसरा स्थान प्राप्त करने वाले अनमोल शेर सिंह बेदी ने कहा कि यह मेरी जिंदगी का सबसे अनमोल दिन है। यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (यूपीएससी) की परीक्षा में देशभर में दूसरा स्थान हासिल करना गौरव की बात है। यह सिर्फ मेरा इम्तिहान नहीं था, बल्कि पूरे परिवार के लिए परीक्षा थी। परिवार की लग्न और मेरी मेहनत के कारण आज यह परिणाम हासिल कर पाया हूं।

अनमोल का कहना है कि यह मेरे लिए एक चमत्कार जैसा है। लोगों को इस मुकाम तक पहुंचने के लिए वर्षों तक कठोर परिश्रम करना पड़ता है, लेकिन वाहेगुरु जी का शुक्र है कि मैंने यह पहली बार में ही कर दिखाया। अनमोल कहते हैं कि मुझे ऐसा लगता था कि शायद मुझे दो से तीन बार परीक्षा देनी पड़ेगी और फिर एग्जाम क्लीयर कर पाऊंगा। पिता सर्बजीत सिंह बेदी हेड ऑफ डिपार्टमेंट मैनेजमेंट एनआईटी जालंधर में कार्यरत हैं। माता जस्सी गृहिणी हैं।

पिता की बात हमेशा रही दिमाग में

अनमोल ने बताया कि उनके पिता उन्हें हमेशा ज्यादा से ज्यादा परिश्रम करने की सलाह दिया करते थे। इसके साथ ही वे उन्हें हमेशा कहा करते थे कि सफलता पाने का एक ही फार्मूला है कि कठिन परिश्रम करो। सफलता इसके बाद आपके हमेशा कदम ही चूमेगी। अनमोल ने बताया कि पिता द्वारा दी गई कड़ा परिश्रम करने की सलाह हमेशा ही उनके दिमाग में घूमती रहती थी।

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि उनके पिता चाहते थे कि मैं यूपीएससी की परीक्षा क्लीयर कर शीर्ष स्थान प्राप्त कर सफलता हासिल कर सकूं। इस बात को केंद्र में रखकर मैंने दिन-रात मेहनत की और आज परिणाम सभी के सामने है।

दोस्तों के साथ घूमना करता था अवॉयड

अनमोल ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि उसके दोस्त अक्सर पार्टी या घूमा करते थे। उसे भी सभी पार्टी के लिए या फिर घूमने के लिए सभी फोर्स करते थे, लेकिन वह दोस्तों के साथ पार्टी करने या फिर घूमने की बजाय घर पर रहकर पढाई करने में समय लगाया करते थे। उनका कहना है कि उनका लक्ष्य निर्धारित था और आज उन्होंने अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लिया है। उन्होंने बताया कि वह दोस्तों को हमेशा ही हंसकर बाहर जाने की बात को टाल दिया करता था, ताकि ज्यादा से ज्यादा समय पढ़ाई को दे सकूं।

राहुल ने कहा- कठोर मेहनत से मिली सफलता

यूपीएससी परीक्षा में देश भर में 76वां रैंक हासिल करने वाले राहुल शर्मा ने कहा कि वह पिछले दो वर्षों से इस परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए प्रयास कर रहे थे। इस बार कठोर मेहनत की थी। दिन रात किताबों में उलझा रहा। बुधवार शाम जब नतीजा आया तो मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। राहुल शर्मा का सिविल परीक्षा के लिए यह तीसरा प्रयास था।

हिंदू सभा कॉलेज ढाब खटिकां के प्रिंसिपल पीके शर्मा के पुत्र राहुल शर्मा की इस उपलब्धि के बाद दोस्तों और रिश्तेदारों ने फोन कर बधाई दी। कश्मीर एवेन्यू में रहने वाले राहुल शर्मा ने कहा कि थापर इंजीनियरिंग कॉलेज पटियाला से बीटेक करने के बाद उसका मकसद सिर्फ यूपीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण करना था।

यह भी पढ़ें: जालंधर में भी आज से रोजाना बदलेंगे पेट्रोल-डीजल के दाम


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here