12th girl student commit suicide in classroom 16058887

0
22


बच्‍चों का रखें ध्‍यान, उपेक्षा से दुखी छात्रा ने क्लासरूम में लगा ली फांसी

अमृतसर में खुद की उपेक्षा से दुखी होकर एक छात्रा ने क्‍लासरूम में गले में फंदा लगाकर जान दे दी। 12वीं की इस छात्रा को लगता था कि सभी उसकी उपेक्षा करते हैं और इससे वह तनाव में थी।

जेएनएन, अमृतसर। रानी का बाग स्थित जगत ज्योति सीनियर सेकेंडरी स्कूल में 12वीं कक्षा की छात्रा सिमरन कौर ने क्लासरूम में लगे पंखा में चुन्नी से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या के कारणों का अभी तक पता नहीं लग सका है। बताया जा रहा है कि वह खुद को उपेक्षित समझती थी और इससे मानसिक तनाव में रहती थी। वह मां से कहती थी कि दुनिया में कोई उससे प्‍यार नहीं करता है। समझा जाता है कि इसी तनाव के कारण उसने जान दे दी।

स्कूल प्रबंधन के मुताबिक सिमरन कौर नवांकोट की निवासी थी। स्कूल में 12वीं कक्षा की छुट्टी 11.30 बजे हो जाती है और विद्यार्थी घर चले जाते हैं। शुक्रवार को छुट्टी के बाद सभी बच्चों के साथ सिमरन भी अपना बैग लेकर नीचे आ गई थी। इसके बाद उसने अपना बैग स्टाफ रूम में रखा और फिर से अपनी कक्षा में चली गई। क्लासरूम में उसने पंखा में चुन्नी से फंदा लगा कर आत्महत्या कर ली।

यह भी पढें: कैप्टन के 21 सिख नौजवानों के कत्ल के बयान पर राजनीति तेज

सफाई सेवक कक्षा की सफाई करने पहुंचे तो सिमरन को फंदे से लटका देख उनके होश उड़ गए। उन्‍होंने भाग कर इसकी जानकारी प्रिंसिपल को दी। इस पर स्कूल प्रबंधन ने सिमरन को पंखे से नीचे उतार कर निजी अस्पताल में भर्ती कराया, लेेकिन वहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

एडीसीपी टू गौतम सिंगल ने बताया कि मामले की जांच जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर कुछ कहा जा सकेगा। फिलहाल अकस्मात मौत का मामला दर्ज किया गया है।

पिता की मौत के बाद सदमे में थी सिमरन

स्कूल प्रबंधक व पुलिस के मुताबिक सिमरन एक एवरेज स्टूडेंट थी। इस हादसे के कारण लड़की के परिजन सदमे में हैं। बताया जाता है कि वह खुद को उपेक्षित समझती थी और इस कारण वह मानसिक तनाव में रहती थी। बीते कुछ दिनों से वह कुछ ज्यादा ही परेशान चल रही थी। परिजनों के मुताबिक बीते दिनों वह अपनी मां से कहती थी कि उसे इस दुनिया में कोई प्यार नहीं करता। सात साल पहले सिमरन के पिता जसपाल सिंह का निधन हो गया था।

यह भी पढ़ें: नौ माह की चाहत को मदद की दरकार, पैसे न होने पर PGI ने किया इलाज से इन्‍कार


SHARE
Previous articleNavjot Singh Sidhu
Next articleShri Akal Takht Sahib

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here