भारतीय जेलों से रिहा होकर पाकिस्तान लौटे सात कैदी

0
3

(अमृतसर ) : भारत की विभिन्न जेलों में बंद 7 पाकिस्तानी कैदियों को मंगलवार को रिहा कर दिया। यह पाक नागरिक आतंकी तथा जासूसी के आरोपों में भारती की विभिन्न जेलों में बंद थे। तीन कैदियों को श्रीनगर की जेल से, 2 कैदियों को दिल्ली, एक को तेलंगाना और एक को मध्यप्रदेश की जेल में बंद थे। रिहाई के बाद उक्त सभी कैदियों को लेकर संबंधित जिलों की पुलिस और अधिकारी मंगलवार को सुबह अटारी सीमा पर पहुंच गए। जहां इनकी सभी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद बीएसएफ के सहायक कमांडेंट अनिल कुमार के हवाले कर दिया। जिन्होंने इन कैदियों को दोपहर करीब 2.30 बजे जीरो लाइन पाक रेंजर्स के फैजल मोहम्मद को सौंप दिया।

भारत की जेलों से रिहा किए गए 7 पाक नागरिकों में से तीन आतंकी है, जिन्हें दक्षिण कश्मीर के पुलवामा, दांतीवाड़ा और कुपवाड़ा इलाकों से पकड़े गए थे। श्रीनगर की जेल से रिहा होने वाले मोहम्मद सलीम रहमानी, मोहम्मद इजाज अहमद भट्ट, मोहम्मद इमरान जमील भट्ट को आतंकी वारदात को अंजाम देने के आरोपों में 14 साल की सजा हुई थी। दिल्ली में गिरफ्तार किए गए मोहम्मद अफजल और मोहम्मद हनीफ को तेलंगाना में गिरफ्तार किया गया था। मोहम्मद मलिक अरशाद को जासूसी करने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया था। जबकि मध्यप्रदेश में गिरफ्तार किया गया साजिद मनीर सीमा पार करके भारतीय क्षेत्र में पहुंचा था।यह सभी कैदी अपनी सजा पूरी कर चुके थे।

जम्मू की जेल से रिहा होकर पाकिस्तान लौटने वाले पाक कैदियों सहित सभी के सख्त तेवर देखने को मिले। सूत्रों की माने तो जम्मू कश्मीर से आते वक्त रास्ते में यह तीन कैदी जम्मू पुलिस के साथ भी उलझे गए थे।

पाक लौटने से पहले श्रीनगर की जेल से रिहा होने वाले तीनों आतंकियों ने कहा कि उन्होंने यह कभी भी स्वीकार नहीं किया कि वे लोग किसी आतंकी वारदात में शामिल है। वे गलती से सीमा पार करके भारतीय क्षेत्र में पहुंच गए थे। साथ ही उन्होंने दोनों सरकारों से अपील की वे दोनों देशों के कैदियों को छोड़ें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here