नशा तस्करी मामले में मजीठिया के खिलाफ आप के पास एक हजार प्रमाण : संजय सिंह

0
10

अमृतसर। पूर्व मंत्री व अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया के खिलाफ आम आदमी पार्टी के पास नशा तस्करों को शरण देने के एक हजार प्रमाण हैं। इन पर सीबीआइ जांच करानी चाहिए। यह बात आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने न्यायधीश अर्जुन सिंह (जेएमआइसी) की अदालत में पेशी भुगतने के बाद कचहरी परिसर में पत्रकारों से कही।

गौरतलब है कि अकाली दल के पूर्व मंत्री और वर्तमान विधायक बिक्रम सिंह मजीठिया ने पिछले साल विधानसभा चुनाव से पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, आप नेता आशीष खेतान और संजय सिंह के खिलाफ अमृतसर की अदालत में मानहानि का केस दायर किया था। पूर्व मंत्री ने आरोप लगाया था कि चुनाव प्रचार के दौरान उक्त तीनों नेताओं ने गलत बयानबाजी कर उनकी छवि को जनता के सामने धूमिल किया है। इस मामले में  मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल को अमृतसर की अदालत ने व्यक्तिगत पेशी से छूट दी है।

संजय सिंह ने कहा कि सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की ड्यूटी बनती है कि जो आम आदमी पार्टी के नेताओं ने मजीठिया पर नशा तस्करी के आरोप लगाए हैं, उनकी सीबीआइ जांच करवाई जाए, लेकिन कैप्टन ने ऐसा करवाना उचित नहीं समझा।

 

संजय सिंह ने कहा कि चुनाव से पहले कांग्रेस के कैप्टन अमरिंदर सिंह ने जनता के साथ तीन वादे किए थे। पहला पंजाब से नशा खत्म कर दिया जाएगा, लेकिन आज भी पंजाब में नशा बिक रहा है। किसानों के कर्जमाफी की बात कही थी, लेकिन उस पर भी काम नहीं किया। प्रत्येक घर को रोजगार देने का संकल्प भी लिया था, लेकिन सत्ता में आते ही यह वादा भी भूल गए। कांग्रेस सरकार के अपने मंत्री गुरजीत राणा पर माइनिंग घोटाले का मामला सामने आ चुका है।

संजय सिंह ने रंजीत एवेन्यू में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि पंजाब में ‘आप’ विपक्ष की जोरदार भूमिका निभा रही है। पंजाब में पहले जीजा-साला राज कर रहे थे और अब चाचा-भतीजा। प्रदेश में अकाली-भाजपा गठबंधन और कांग्रेस मिलजुल अपनी दुकानदारी चला रहे हैं।

 

संजय सिंह ने कहा कि आने वाले दिनों में बिहार की तर्ज पर पंजाब में भी नितीश टू कांड होने वाला है। कांग्रेस के बड़े नेता बड़ी संख्या में नेताओं के साथ भाजपा में शामिल हो सकते हैं। मोदी सरकार जनहित में कोई काम नहीं कर रही।

 

संजय सिंह ने बताया कि उन्हें अभी पता चला कि बिक्रम मजीठिया के वकील ने प्रेस कांफ्रेंस में अदालत में चल रहे मामले से जुड़े दस्तावेज पढ़े हैं। यह अदालत की अवमानना है। वह इस बारे में अपने वकील से बात करेंगे, ताकि सारे मामले को अदालत में बताया जा सके।

SHARE
Previous articleGolden temple…neel
Next articleDarbar Sahib

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here